हैवान विमल चंद को वकीलों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, बच्चियों को घर में बुलाकर करता था दरिंदगी, देखें

नौकरानी द्वारा बच्चियों को घर बुलाकर हैवानियत करने वाले विमल चंद पर वकीलों का गुस्सा फूटा। कचहरी में पेशी के दौरान वकीलों ने आरोपी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।

हैवान विमल चंद को बचाने के लिए पुलिस दूसरी कोर्ट में घुस गई और दरवाजा बंद कर लिया। सूचना पर पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। इसके बाद कचहरी में फोर्स बुलाई गई। कड़ी सुरक्षा में आरोपी को एसीजेएम-10 की कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसको जेल भेजा। सीओ सदर कैंट रामअर्ज, सीओ सिविल लाइन हरि मोहन सिंह, सीओ कोतवाली दिनेश शुक्ला व मेडिकल थाने की पुलिस आरोपी विमल चंद और टेक्नीशियन आशु को शुक्रवार शाम करीब पांच बजे कचहरी लेकर पहुंची।

विमल पर बच्चियों से दरिंदगी करने और आशु पर सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से आरोपी को ब्लैकमेल करने का आरोप है। दोनों आरोपियों को पुलिस ने एसीजेएम-10 डॉ. अनिल कुमार की कोर्ट में पेश किया। विमल चंद के कोर्ट पहुंचने की जानकारी पर करीब 50 अधिवक्ता वहां पहुंच गए।

पुलिस आरोपी को एसीजेएम-10 कोर्ट से स्पेशल जज पॉक्सो जीपी सिंह की कोर्ट लेकर जा रही थी। तभी वकीलों ने विमल चंद को कचहरी परिसर में ही पीटना शुरू कर दिया।

इसके बाद पुलिस जैसे तैसे आरोपी विमल को दूसरी कोर्ट में लेकर घुस गई और अंदर से दरवाजा बंद कर लिया। इसके बाद सीओ ने वायरलेस सेट से पुलिस फोर्स बुलाई। तब जाकर आरोपी विमल को स्पेशल जज पॉक्सो कोर्ट में पेश किया।

वकीलों ने कहा कि पुलिस को ऐसे दरिंदे पर मजबूत कार्रवाई करनी चाहिए। आरोपी के खिलाफ कचहरी में नारे भी लगे। मेडिकल थाना एसओ पर लगे आरोप को लेकर भी वकीलों में चर्चा थी। कड़ी सुरक्षा में आरोपियों को पेश किया और फिर जेल भेजा। वहीं गुस्साए स्थानीय लोगों ने विमल चंद के घर पर तोड़फोड़ की।

सोर्स – अमर उजाला